बेगम पारा बायोग्राफी हिंदी | Begum Para Biography in Hindi

बेगम पारा बायोग्राफी हिंदी | Begum Para Biography in Hindi

Begum Para Biography in Hindi
Begum Para Biography in Hindi

भारतीय सिनेमा के स्वर्ण युग से महान अभिनेत्री बेगम पारा। उनका जन्म 1926 में फराहक में हुआ था। उसका परिवार जाना-पहचाना था और अलीगढ़ का रहने वाला था। यह वह समय था जब भारत पर अंग्रेजों का शासन था। उनके पिता एक उच्च सरकारी पद पर आसीन थे। और उनका बचपन बीकानेर में बीता। बाद में उन्होंने अलीगढ़ विश्वविद्यालय से पढ़ाई की। बेगम पारा के परिवार ने दिया बहुत बड़ा योगदान भारतीय क्रिकेट की शुरुआत के लिए। तो एक तरफ ये क्रिकेट था और दूसरी तरफ ये फिल्में थीं। दरअसल बेगम पारा के भाई ने प्रोतिमा दासगुप्ता से शादी की जो उस समय की महान अभिनेत्री थी।

Begum Para Biography in Hindi

जब भी वह अपने भाई से मिलने मुंबई जाती थी तो फिल्म इंडस्ट्री का ग्लैमर और ग्लो उन्हें आकर्षित करेगा। उसके अच्छे स्वभाव और सुंदरता के कारण लोग अक्सर उन्हें फिल्में ऑफर करते थे। शशिधर मुखर्जी और देविका रानी वे थे जिन्होंने बेगम पारा को पहला ब्रेक दिया। हालांकि उसके पिता बिल्कुल तैयार नहीं थे लेकिन बेटी की जिद के आगे उन्होंने सरेंडर कर दिया उन्होंने बस एक शर्त रखी। कि वह लाहौर की किसी भी फिल्म में कभी काम नहीं करेंगी। उनकी पहली फिल्म पुणे के प्रभात स्टूडियो की 'चांद' थी। 1944 का साल था। प्रेम अदीब उनके हीरो थे। और सितारा देवी एक वैंप की भूमिका निभा रही थीं।

Begum Para Biography in Hindi

फिल्म को खूब सराहा गया और वह 1500 रुपये महीने कमाने लगी। उस समय 1500 रुपये बहुत बड़ी रकम हुआ करती थी। और उसके बाद उन्होंने फिल्म 'छमिया' बनाई अपनी भाभी प्रोतिमा के साथ। यह 'पायग्मेलियन' उपन्यास पर आधारित थी। यहां तक ​​कि यह सफल भी रहा। हालांकि उसके पास अवसर थे लेकिन वह ज्यादा काम नहीं कर रही थी। ऐसा इसलिए था क्योंकि उनकी छवि एक आधुनिक लड़की की थी। वह किसी भी रूढ़िवादी से दूर रहना चाहती थी या रोना और रोना चरित्र चित्रण। बेगम पारा ने उस समय की दूसरी एक्ट्रेस से दोस्ती कर ली थी। वह लापरवाह नायिका थीं। वह सब कुछ सार्वजनिक रूप से करती थी।

Begum Para Biography in Hindi

उसने अपनी बेफिक्री को कभी नहीं छुपाया। उन्होंने उस दौर की कई अभिनेत्रियों के साथ काम किया। जैसे नरगिस के साथ फिल्म 'मेहंदी' में। उन्होंने ईश्वरलाल और दीक्षित के साथ 'जंजीर' और 'सोनी महिवाल' की। अजीत के साथ 'मेहरबानी'। और भारत भूषण और गीता बाली के साथ 'सुहाग रात'। 'नीलकमल' में उनके साथ राज कपूर थे। यह भी प्रसिद्ध है कि बेगम पारा 'मुगल-ए-आजम' में छोड़ दिया वो रोल जिसे बाद में निगार सुल्ताना ने निभाया। वजह ये थी कि वो चाहती थी रोते हुए किरदारों से दूर रहने के लिए और इसलिए उन्होंने 'मुगल-ए-आजम' जैसी फिल्म भी छोड़ दी। चुने जाने वाली वह पहली भारतीय अभिनेत्री थीं 'लाइफ' पत्रिका द्वारा पिन अप गर्ल के रूप में। 


Begum Para Biography in Hindi


और फिर अपने जीवन के एक बिंदु पर वह अपने जीवन साथी से मिली। दिलीप कुमार के छोटे भाई नसीर खान। मशहूर एक्ट्रेस शम्मी ने की बहुत मदद बेगम पारा और नसीर खान की प्रेम कहानी की सफलता में। हालांकि उस वक्त नसीर पहले से शादीशुदा थे और बेगम पारा ने उनसे दूर रहने की बहुत कोशिश की। लेकिन जब से नसीर की शादी पहले से ही टूट रही थी इसलिए इन दोनों ने इस रिश्ते को और आगे जाने दिया। सोचा दोनों मुसलमान हैं, बेगम पारा ने स्पष्ट किया कि वह उसकी दूसरी पत्नी के रूप में उसके साथ नहीं रहेगी। इसलिए नसीर को पहले उसे तलाक देना चाहिए और फिर उससे शादी कर लेनी चाहिए। और वही हुआ। पहली शादी से नसीर की एक बेटी थी।

Begum Para Biography in Hindi

और बेगम पारा ने सफाई दी थी कि जैसे ही तुम मुझसे शादी करोगी मैं आपकी बेटी की जिम्मेदारी लूंगा। और उसने जीवन भर अपनी जिम्मेदारी निभाई। हालांकि उनके मशहूर साले दिलीप कुमार शादी में शामिल नहीं हुए। लेकिन उसके बाद हालात बदल गए और दिलीप कुमार और बेगम पारा एक दूसरे का सामना भी नहीं करते। इसके लिए कुछ हद तक सायरा बानो को जिम्मेदार ठहराया गया था। दिलीप के परिवार को लगा कि जब से सायरा बानो उसकी जिंदगी में आ गया है वो अपने परिवार से बिछड़ गया है। बेगम पारा के पति नसीर खान भी एक अभिनेता थे। उन्होंने फिल्म 'गंगा जमना' में शानदार अभिनय किया था। लेकिन समय से पहले ही उनके बाल झड़ रहे थे और उसे विग पहनकर काम करना था उन्होंने फिल्म निर्माण पर ध्यान केंद्रित करने के बारे में सोचा।

Begum Para Biography in Hindi

1974 में बेगम पारा और नसीर खान अपनी पूरी जिंदगी की कमाई फिल्म 'जिद' में लगा दी। इस फिल्म के मुख्य किरदारों ने निभाए थे संजय खान और सायरा बानो। फिल्म लगभग खत्म हो चुकी थी। बस थोड़ा सा काम होना बाकी था। और नसीर आउटडोर शूटिंग के लिए निकल गए। और अगले दिन नरगिस ने बेगम पारा को फोन किया और कहा कि दिल का दौरा पड़ने से उनके पति नसीर का निधन हो गया है। यह उसके लिए बहुत बड़ा सदमा था। वह पूरी तरह से अपने पति पर निर्भर थी। और उन्होंने अपना सारा पैसा पहले ही फिल्म 'जिद' में लगा दिया था। इस शादी से उनके तीन बच्चे हुए। और उसके लिए अपने पूरे परिवार की देखभाल करना बहुत कठिन था। वह पीने लगी। और इससे पहले कि वह खुद को शराब में डुबो लेती उसकी बहन उसे पाकिस्तान ले गई जहां उसके पिता रहते थे।

Begum Para Biography in Hindi

वह वहां करीब 2 साल तक रहीं। उसे थोड़ी हिम्मत मिली।  लौटने का फैसला किया। और उसने अपने घर का एक हिस्सा किराए पर दे दिया जिसने उसके परिवार का खर्चा उठाया। उनके बेटे अयूब खान जाने-माने अभिनेता हैं। अयूब खान ने फिल्मों और टेलीविजन में अच्छा नाम कमाया है। लेकिन बेगम पारा ने इसे छोड़कर फिर से फिल्मों में वापसी की। और इस बार उन्होंने साल 2007 में वापसी की। उन्होंने फिल्म 'सांवरिया' में सोनम कपूर की बड़ी की भूमिका निभाई थी। बेगम पारा फिर से संजय लीला भंसाली की फिल्म 'सांवरिया' में नजर आई थीं। संजय लीला भंसाली उन्हें एक और फिल्म के लिए साइन करना चाहते थे। लेकिन इससे पहले बेगम पारा ने अंतिम सांस ली। 9 दिसंबर 2008 को 81 साल की उम्र में बेगम पारा का निधन हो गया। जानिए महान हस्तियों की कहानियों के बारे में आप हमारे अन्य पोस्ट को पढ़ सकते हैं।

Begum Para Biography in

0/Post a Comment/Comments